बुधवार, 14 दिसंबर 2016

my youtube chnnael

https://www.youtube.com/channel/UCfss6bt8c8X_McwNVoiWfUg                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               https://www.youtube.com/watch?v=RPHw28IHAZU

शुक्रवार, 2 दिसंबर 2016

                                                   हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह,
वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे।



                                                मत पूछ कैसे गुज़र रही है ज़िन्दगी;
उस दौर से गुज़र रहा हूँ जो गुज़रता ही नहीं।


                                               ज़िद मत किया करो मेरी दास्तान सुनने की
मैं हँस कर कहूँगा तो भी तुम रोने लगोगे।

मंगलवार, 29 नवंबर 2016

                                                  बेपनाह मोहब्बत का एक ही उसूल है,
मिले या ना मिले तू हर हाल मे कबूल है।
   



                                                सब पूछते हैं मुझ से क्यों रातों को मैं जागता हूँ और दिन में खोया हुआ सा रहता हूँ, चुप रहूँ या कह दूँ अब सब से कि इस बेचैन दिल की वजह तुम हो।
                               
                                             

                                               
                       नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर,
कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नही देता।


                                   
                           तेरा अक्स गढ़ गया है आँखों में कुछ ऐसा,
सामने खुदा भी हो तो दिखता है हू-ब-हू तुझ जैसा।



                             मुझ से रूठकर वो खुश है तो शिकायत ही कैसी,
अब मैं उनको खुश भी ना देखूं तो हमारी मोहब्बत ही कैसी।

my Hindi shayari





                                          बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर,
                                          जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया।
                           


                                          ये बेवफा, वफा की कीमत क्या जाने;
                                             ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने;
                                              जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर;
                                                   वो भला प्यार की कीमत क्या जाने।
4